What is 5G Technology? | 5G in India | 5G टेक्नोलॉजी क्या है? | 5G In Hindi

What is 5G Technology? | 5G in India | 5G टेक्नोलॉजी क्या है? | 5G In Hindi

दोस्तों क्या आपको पता है 5G Technology क्या है? आज हम बात करेंगे 5G Technology के बारे में 5G Technology जो की April 2020 मे South Korea में बड़े स्तर पर लॉन्च होने जा रही है। USA भी इस 5G Technology के डेवलपमेंट में भाग ले चुकी है.

फील हाल इंडिया में 5G Technology को लेकर शुरुआती फेज में Testing का काम चालू है,इसलिए हमे 5G Technology जानकारी होनी चाहिए आखिर 5G Technology क्या है? 5G Technology कैसे काम करती हैं और आने वाले समय में हमारे जीवन में 5G टेक्नोलॉजी क्या बदलावं लायेगी.

इस लेख में हमने 5G Technology के बारे में पूरी विस्तार से बात की है जैसे – 5G टेक्नोलॉजी क्या है?5G टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है?5G टेक्नोलॉजी इंडिया में कब आएगी ?5G टेक्नोलॉजी की सुविधा और त्रुटिया.
5G टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी होना हमारे लिये बहुत ही जरूरी है इसलिए आप इस लेख को पूरा पढो और अपने दोस्तो के साथ शेयर भी करो.

What is 5G ?
5G क्या है?

5G का Full Form है Fifth Generation। 5G Technology एक fifth generation wireless technology है जो की “Digital Cellular Network” के लिए बनायी जा रही है ।

Digital Cellular Network का Speed बढ़ाने के लिए 5G टेक्नोलॉजी को काम में लिया जाएगा.जिसमे Wireless Network की Speed 1-GB पर सेकंड से लेकर 100-GB पर सेकंड तक होगी.

5G का Response Time यानी latency 1-MS से लेकर 100-MS तक है जो की बहुत ही कम है । 5G में ज्यादा Bandwidth दिया है जिसके चलते डिजिटल डेटा फाइल्स कुछ ही मिली सेकंड में ट्रांसफर हो।सकती है। 5G टेक्नोलॉजी में एडवांस एंटेना टेक्नोलॉजी होने के कारण बड़े तौर पर Data को transmit किया जा सकता है.

5G Technology को Digital Cellular Network के साथ और अन्य 5G Projects जैसे
• Self driving car • VR and AR • Medical procedures • Critical infrastructure और Wireless Broadband Connection के लिये काम में लिया जानेवाला है.

5G टेक्नोलॉजी में Virtual Network (5G Slicing) भी है जो की अन्य Mobile Operators को Allow करती है multiple virtual networks create करने के लिए वो भी एक single physical 5G network में.

इस capability से wireless network connections को किसी specific uses या business cases में इस्तमाल किया जा सकता है और इसे as-a-service basis में बेचा भी जा सकता है. 

5G टेक्नोलॉजी अप्रैल 2020 में South Korea में लांच होने जा रहा है आनेवाले समय में अन्य देशो में भी 5G Technology का विस्तार हो जाएगा और धीरे धीरे सभी देशों में नई 5G Technology को काम में लेंगे

How works 5G Technology?????
5G टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है?

5G टेक्नोलॉजी Millimeter Waves के प्रणाली पे काम करती है Millimeter Waves के जरिये latency को कम किया जाता है । Wireless networks में मुख्य रूप से cell sites होते हैं जिन्हें की स्मॉल sectors में divide किया गया होता है जो की Millimeter Radio Waves के माध्यम से Data send करते हैं.

5G wireless signals को transmit करने के लिए बहुत सारे small cell stations की जरूरत होती है जिन्हें की छोटी छोटी जगह जैसे की light poles या Building Towers में लगाया जा सकता है. यहाँ पर multiple small cells का इस्तमाल इसलिए होता है क्यूंकि ये millimeter wave spectrum में — band of spectrum हमेशा 30 GHz से 300 GHz के भीतर ही होती है और  5G में high speeds पैदा करने की जरुरत होती है, जो की केवल short distances ही travel कर सकता है. इसके अलावा ये signals किसी भी weather और physical obstacles, जैसे की buildings से आसानी से interfere हो सकते हैं.

Millimeter Radio Waves से डेटा Speed को Fast Transmit किया जाता है।Millimeter Waves एक सीमित क्षेत्र तक ही काम करती है इसके चलते 5G Network का विस्तार होने मे और ज्यादा समय लग सकता है।

Features of 5G Technology
5G टेक्नोलॉजी की सुविधाएं

5G Technology में कहि सारे ऐसे सुविधाएं है जो की मौजूदा नेटवर्क 4G में नही है चलो देखते है 5G Technology की सुविधाएं

• 4G के 100 गुना Speed

• कम latency 1-MS

• 4G से तुलना करे तो 5G एक यूनिट में 100 गुना ज्यादा डिवाइसेस को एक एक साथ कनेक्ट हो सकता है.

• Data Network की 100x Speed 1-GB पर सेकंड से 100-GB सेकंड

• बेहतरीन Network Coverage मिलेगा

• हमेशा Availability

• 5G कम बैटरी ख़र्च करेगा.

• 5G काफी सारे Devices के साथ एक ही समय काम करेगा

• 1000x bandwidth per unit area

How fast 5G?
5G कितना फास्ट है?

IMT-2020 के अनुसार, 5G जी से peak data rate  20 Gbps तक भेजा जा सकता . Qualcomm Technologies ने 5G में ( New Radio ) modem, the Qualcomm® Snapdragon™ X50 5G modem, को ऐसे बनाया है की जो की downlink peak data rate 5 Gbps तक speed दे सकता है

ज्यादा peak data rate 5G के network capacity को बढाता है नए Millimeter Waves 5G spectrum  के साथ,बेहतरीन network speed देने में सक्षम बनाता है । 5G मैं कम latency होने की वजह से जल्द से यूजर को quick response time मिल सकता है.5G के साथ यूजर हमेशा Connected रहेगा । 5G एक Gigabit-class कनेक्टिविटी देगा.

When is 5G coming out in India?
5G इंडिया में कब आएगा?

5G को लेकर कहि सारे देश काम कर रहे है जिसमे
3GPP (3rd Generation Partnership Project) का बड़ा योगदान है। अप्रैल 2020 में 5G South Korea में बड़े स्तर पर लॉन्च होने जा रहा ।

फील हाल इंडिया में 5G Technology को लेकर शुरुआती फेज में Testing का काम चालू है

भारत सरकार ने 5G स्पेक्ट्रम के लिए ऑक्शन की तैयारी शुरू कर दी है. सरकार ने ट्राई से कहा है कि 3400 से 3600 MHz बैंड्स की नीलामी के लिए शुरुआती दाम सुझाए. ट्राई ने इसपर काम शुरू कर दिया है.

डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकॉम जल्द ही इस संबंध में एक पॉलिसी भी ला सकता है. दरअसल एक्सपर्ट्स का मानना है कि भारत में 5G जैसी फास्ट वायरेलस टेक्नॉलजी लाने से पहले डेटा होस्टिंग और क्लाउड सर्विसेज के लिए रेग्युलेटरी कंडिशंस में बदलाव लाया जाना चाहिए.

आने वाले 2-3 साल में 5G इंडिया में भी पूरी तरह से लॉन्च हो जाएगा.

Difference between 4G and 5G?
4G and 5G में क्या फर्क है?

4G and 5G में कहि सारे फर्क है

• 5G एक सुपर फास्ट Speed देगा 4G के तुलना मे :

• 4G से ज्यादा Capacity है 5G मे :

• 5G मे कम Latancy है जो की 4G मे नहीं :

• 5G के spectrum 4G से कहि गुना Better है :

Pervious Mobile Generation ?
5G से पहेले वाले Generation कोनसे है?

★ First Generation (1G) -1980
★ Second Generation (2G)-1990
★ Third Generation (3G) -2000
★ Fourth Generation (4G) -2010

What is 5G Wi-Fi?
5G वाय फाय क्या है?

5G Wi-Fi में यूजर को 4G और Broadband connection की जैसे ही लेकिन Ultra Fast High Speed Nework Speed का अनुभव मिलेगा ये कनेक्शन 5G वायरलेस Broadband की जरिए यूजर को मिल सकता है.

5G Advantages
5G के Advantages क्या हैं?

◆ High resolution और bi-directional large bandwidth shaping :

◆ 5G के माध्यम से सभी networks को एक ही platform के अंतर्गत लाया जा सकता है :

◆ 5G ही ज्यादा effective और efficient है :

◆ 5G में फ़ास्ट Download और Upload Speed  :

◆ 5G Technology के माध्यम से subscriber को supervision tools प्रदान किये गए हैं जिससे वो quick action ले सकते हैं :

◆ इसके द्वारा बड़े पैमाने में broadcasting data (in Gigabit) हो सकती हैं, जिससे ये 60,000 connections से भी ज्यादा को support कर सकता है :

◆ इसे previous generations के साथ आसनी से manage किया जा सकता है :

◆ ये Technological sound है heterogeneous services (जिसमें की private network) को support करने के लिए :

◆ इस technology के द्वारा पूरी दुनिया में uniform, uninterrupted, और consistent तरीके से connectivity प्रदान किया जा सकता है :

◆ इसमें parallel multiple service आप पा सकते हैं जैसे की आप बात करते हुए weather और location की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं :

◆ आप अपने PCs को handsets के जरिये control कर सकते हैं :

◆ इससे Education बहुत ही आसान हो जाता है क्यूंकि कोई भी student दुनिया के किसी भी छोर से ज्ञान प्राप्त कर सकता है :

◆ Medical treatment भी आसान हो सकती है क्यूंकि एक doctor किसी मरीज को जो की दुनिया के किसी भी remote location में स्तिथ हो उसे इस technology के द्वारा ठीक कर सकता है

◆ इससे monitoring में आसानी होगी क्यूंकि government organization और investigating officers आसानी से किसी भी जगह को monitor कर सकते हैं जिससे crime rate में गिरावट होने की संभावनाएं हैं.

◆ अंतरिक्ष, galaxies, और दुसरे ग्रह को देखना बहुत ही आसान हो जायेगा.

◆ किसी भी खोये हुए इन्सान को ढूंड पाना आसान हो जायेगा.

◆ आने वाली बड़ी natural disaster जैसे की tsunami, भूकंप इत्यादि को पहले से ही detect किया जा सकेगा.

5G के Dis-Advantages क्या हैं?

5G technology को बहुत ही researched और conceptualized तरीके से बनाया गया है सभी radio signal problems और mobile world के hardship of mobile world को ख़त्म करने के लिए, लेकिन इसके वाबजूद भी इसके कुछ disadvantages है

◆ ये 5G की Technology अभी तक भी under process है और इसके पीछे research जारी है.

◆ जो speed प्रदान करने की बात जो ये कर रहा है, उसे achieve करना मुस्किल प्रतीत होता है है क्यूंकि उसके लिए अभी तक उतना technological support विश्व के बहुत से हिस्सों में फिलहाल मेह्जुद नहीं है.

◆ बहुत सारे पुराने devices इस नयी 5G technology के साथ compatible नहीं है जिसके चलते उन्हें बदलना पड़ेगा, जो की एक expensive deal साबित होगा.

◆ इसके infrastructures को Develop करने में ज्यादा cost लग सकता है.

◆ इसमें अभी तक भी कई Security और privacy related issue मौजूद हैं जिन्हें अभी तक भी solve करना बाकि है.

5G Technology पढ़ने के लिए धन्यवाद और भी महत्वपूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे.

error: Content is protected !!