प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 'डिपॉजिटर्स फर्स्ट : गारंटी टाइम बाउंड डिपॉजिट इंश्योरेंस पेमेंट अप टू 5 लाख रुपए' प्रोग्राम को संबोधित किया।

'डिपॉजिटर्स फर्स्ट : गारंटी टाइम बाउंड के  डिपॉजिट इंश्योरेंस प्रोग्राम के 1 लाख  राशि को बढ़ाकर फिर 5 लाख रुपए कर दिया।

देश की समृद्धि में बैंकों की बड़ी भूमिका है। और बैंकों की समृद्धि के लिए जमाकर्ताओं का पैसा सुरक्षित होना उतना ही जरूरी है। हमें बैंक बचाने हैं तो Depositors को सुरक्षा देनी ही होगी।

मोदी : DICGC एक्ट में इस बदलाव को शामिल किए जाने पर डिपॉजिटर को बड़ी आसानी होगी, क्योंकि उन्हें तय समय में अपना 5 लाख रुपए तक का डिपॉजिट वापस मिल जाएगा।

इससे पहले अगर कोई बैंक डूबता या दिवालिया होता था तो उसके ग्राहक को सिर्फ एक लाख रुपए तक का ही रिफंड मिलता था। अब सरकार ने इसे बढ़ाकर 5 लाख रुपए कर दिया है।

– पूरी योजना में DICGC की भूमिका बहुत अहम है। आरबीआई से जुड़ा यही विभाग बैंकों में सेविंग, करंट, रेकरिंग अकाउंट या फिर फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) आदि स्कीम्स में जमा 5 लाख रुपये तक की रकम सुरक्षित करता है

इंश्योरेंस स्कीम देश के सभी कॉमर्शियल बैंकों में सेविंग्स, फिक्स्ड, करेंट, डिपॉजिट जैसे सभी जमाओं को कवर करता है. राज्य, केंद्रीय और प्राथमिक सहकारी बैंकों में डिपॉजिट भी इस दायरे में आते हैं.