Tiktok Says We Do Not Plan To Take Any Legal Action Against The Order Of The Government Of India – भारत सरकार से कानूनी लड़ाई नहीं चाहता है Tiktok, नियमों के मुताबिक काम करने को तैयार

11
Tiktok App Makes New World Record 2 Billions Users Download This App Know About It - Tiktok ने बनाया नया रिकॉर्ड, 2 अरब यूजर्स ने किया डाउनलोड


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

<!-- Composite Start --> <div id="M543372ScriptRootC944389"> </div> <script src="https://jsc.mgid.com/p/r/primehindi.com.944389.js" async></script> <!-- Composite End -->

भारत सरकार ने हाल ही में चीन को झटका देते हुए टिक-टॉक एप समेत 59 चीनी मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगाया था। इसके बाद ही कई रिपोर्ट्स सामने आई थी, जिनमें कहा जा रहा था कि टिक-टॉक जल्द बैन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकता है। हालांकि, अब टिक-टॉक ने सरकार द्वारा लगाए गए बैन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की खबर को सिरे से खारिज कर दिया है। साथ ही टिक-टॉक के प्रवक्ता ने कहा है कि हमारी सरकार के आदेश पर कानूनी कार्रवाई करने की कोई योजना नहीं है। हम सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं।

टिक-टॉक इंडिया के हेड निखिल गांधी ने हाल ही में कहा था कि सरकार ने 59 एप्स पर अंतरिम प्रतिबंध लगाया है जिनमें टिकटॉक भी शामिल है। हम इस प्रतिबंध के लिए सरकार से जल्द ही बात करने वाले हैं। टिकटॉक हमेशा की तरह डाटा और प्राइवेसी की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है। हम भारतीय यूजर्स का डाटा चीनी या किसी अन्य सरकार के साथ साझा नही करते हैं।

केंद्र सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 ए के तहत 59 चीनी एप्स को ब्लॉक करने का निर्णय लिया था, क्योंकि ये एप भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए खतरा थे। सरकार को विभिन्न स्रोतों से इन एप्स को लेकर कई शिकायतें मिली थी, जिनमें कई मोबाइल एप के दुरुपयोग की बाते थी। ये एप आईफोन और एंड्रॉयड दोनों यूजर्स का डाटा चोरी कर रहे थे।

टिकटॉक- TikTok, शेयरइट- Shareit,  कवाई- Kwai, यूसी ब्राउजर- UC Browser, बायडू मैप- Baidu map, शेन- Shein, क्लैश ऑफ किंग्स- Clash of Kings, डीयू बैटरी सेवर- DU battery saver, हेलो- Helo, लाइकी- Likee, यूकैम मेकअप- YouCam makeup, एमआई कम्युनिटी- Mi Community, सीएम ब्राउजर- CM Browers, वायरस क्लिनर- Virus Cleaner, आपुस ब्राउजर- APUS Browser, रोमवी- ROMWE, क्लब फैक्ट्री- Club Factory, न्यूजडॉग- Newsdog, ब्यूटी प्लस- Beutry Plus, वीचैट- WeChat, यूसी न्यूज- UC News, क्यूक्यू मेल- QQ Mail, वीबो- Weibo समेत 59 एप्स पर प्रतिबंध लगाए गए हैं।

सार

  • टिक-टॉक एप ने कानूनी कार्रवाई से जुड़ी खबर को किया खारिज
  • टिक-टॉक के प्रवक्ता ने सरकार के साथ मिलकर काम करने की बात कही

विस्तार

भारत सरकार ने हाल ही में चीन को झटका देते हुए टिक-टॉक एप समेत 59 चीनी मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगाया था। इसके बाद ही कई रिपोर्ट्स सामने आई थी, जिनमें कहा जा रहा था कि टिक-टॉक जल्द बैन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकता है। हालांकि, अब टिक-टॉक ने सरकार द्वारा लगाए गए बैन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की खबर को सिरे से खारिज कर दिया है। साथ ही टिक-टॉक के प्रवक्ता ने कहा है कि हमारी सरकार के आदेश पर कानूनी कार्रवाई करने की कोई योजना नहीं है। हम सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं।


आगे पढ़ें

टिक-टॉक इंडिया के सीईओ ने दिया बयान



Source link