सोपोर हमला: गोलियों की बौछार के बीच 80 मीटर कोहनी के बल चला था पवन; माता-पिता बोले- गर्व से ऊंचा हो गया सिर

64





बुधवार को जम्मू-कश्मीर के सोपोर में हुए आतंकी हमले ने पूरे देश को झकझोर दिया है। यहां आतंकियों ने एक नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी, जबकि उसकेतीन साल केपोते की जान बच गई। वह दादा के शव के सीने पर बैठकर रो रहा था।उस बच्चे को सीआरपीएफ जवान पवन कुमार चौबे ने अपनी जान की परवाह किए बगैर बचाया था।

पवन वाराणसी मेंजिला मुख्यालय से 22 किमी की दूरी पर स्थित गोल ढमकवां गांव के रहने वाले हैं। गुरुवार को सीआरपीएफ 95 बटालियन के कमांडेंट एनपी सिंह ने पवन के परिवार के बीच पहुंचकर दिलेर जवान पवन के माता-पिता को सम्मानित किया तो पूरे परिवार और गांव के लोगों को गर्व महसूस हुआ।

<!-- Composite Start --> <div id="M543372ScriptRootC944389"> </div> <script src="https://jsc.mgid.com/p/r/primehindi.com.944389.js" async></script> <!-- Composite End -->

वाराणसी से करीब 22 किमी की दूरी पर गोल ढमकवां गांव है।चौबेपुर बाजार से कादीपुर रेलवे स्टेशन की क्रासिंग को पार कर पक्की सड़क पर दो किमी चलने पर यह गांव आता है। पक्की सड़क से 500 मीटर खड़ंजा लगा है। 700 की आबादी वाले इस गांव में बीच में पवन का पक्का मकान है।पवन के चचेरे बाबा कल्लू चौबे पूर्व प्रधान भी रह चुके हैं। पिता किसान हैं।

जवान ने फोन कर बयानकी मुठभेड़ की कहानी

बुधवार सुबह सोपोर हमले की फोटोमीडिया में सुर्खियां बनने लगी थीं। सोपोर से 1700 किमी दूर बैठे अपनों को भी बेटे पवन की फोटो देखकर उसकी चिंता होने लगी। लेकिन,कुछ देर बाद जब लोगों को पता चला किउसने संकट में फंसे मासूम को बचाया है और खुद भी सकुशल है तो चिंता के भाव सभी के चेहरे से छंट गए।

मां सुशीला देवी ने बताया किबुधवार रात में बेटे पवन का फोन आया था। उसने बताया कि179 बटालियन के जवान सोपोर मार्केट में कल ड्यूटी कर रहे थे। पास कीमस्जिद में आतंकियों ने फायरिंग कर दी। एक बुजुर्ग को गोली लग गईऔर वो नीचे गिर पड़े थे।

उनका पोता दादा के शव पर बैठकर रोने लगा था। मां ने कहा-मेरा लाल बच्चे के रोने की आवाज सुनकर खुद को रोक नहीं पाया और उसने कोहनी के बल लेटकर 80 मीटर दूर जाकर बच्चे को बचाया और सीने से चिपकाकर वापस आया। मैंने अपना बेटा देश को दे दिया है। आज उसने सम्मान बढ़ा दिया।

सीआरपीएफ जवान पवन चौबे।

पिता बोले- बच्चे को बचाने के लिए आतंकियों से लड़ गया, बेटे पर गर्व

पिता सुभाष चौबे ने बताया कि वो (पवन) रोज सुबह फोन करता था। लेकिन, कल सुबह फोन नहीं आया तो चिंता हुई। 1 बजे उसको मैंने फोन कियातो बोला परेशानी में हूं। बाद मेंकॉल करते हैं। आधे घंटे बाद बताया कि घटना घटी है। फिर रात दस बजे कॉल किया किअब तो सब कुछ पता चल गया होगा? पिता ने कहा किबेटा आतंकियों से लड़ गया बच्चे को बचाने के लिए, मुझे गर्व है।

पिता ने कहा किछत्तीसगढ़ में भी पोस्टिंग के दौरान बेटे ने नक्सलियों को टक्कर दी थी। अब वह 3 सालों से सोपोर में तैनात है। कुछ भी पूछने पर बोलता है किपापा देश की रक्षा करना मेरा फर्ज और ड्यूटी है। बीए की पढ़ाई करते समय ही फोर्स में भर्ती हो गया था।

जवान पवन की माता-पिता के साथ ली गई सेल्फी।

पत्नी ने कहा- मां तो मां होती है, दुश्मन को नहीं छोड़ना चाहिए

पत्नी शुभांगी ने बताया कि 2012 में हमारी शादी हुई है। एक बेटी और एक बेटा है। बुधवार कोफोन सुबह नहीं आया तो मन घबरा रहा था। रात को पता चला मुठभेड़ चल रहीथीऔर उन्होंने एक बच्चे को अपनीजान खतरे में डाल कर बचाया। बेटा किसी का हो मांतो मांही होती है। दुश्मन को नहीं छोड़ना चाहिए।

यह तस्वीर आतंकियों से मुठभेड़ के बाद की है। जवान पवन की गोद में मासूम।

कोबरा बटालियन में रही तैनाती, दो नक्सलियों को मार गिराया था

पवन 2010 में सीआरपीएफ में भर्ती हुए थेऔर एक साल की ट्रेनिंग की। फिर झारखंड में 203 कोबरा बटालियन में तैनात हुए। 2012 में नक्सलियों के साथमुठभेड़ में टीम के साथ पवन ने झारखंड में दो नक्सलियों को मार गिराया था। यह बटालियन खासतौर पर नक्सलवाद को खत्म करने के लिए बनाई गई है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


बुधवार को जम्मू-कश्मीर के सोपोर में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इस दौरान जवान पवन ने अपनी जान पर खेलकर एक बच्चे को बचाया था।



Source link