विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा- कोरोनावायरस संकमण फैलने का पहला अलर्ट चीन ने नहीं, हमने किया था

38





विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ ) ने कोरोनावायरस संकट के शुरू होने के बारे में एक नया दावा किया है। उसका कहना है कि वुहान में निमोनिया के मामलों को लेकर पहली जानकारी चीन ने नहीं, बल्कि वहां स्थित डब्ल्यूएचओ के ऑफिस ने दी थी। डब्ल्यूएचओ ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के आरोपों को भी खारिज किया। ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ पर महामारी रोकने के लिए जरूरी जानकारी देने में नाकाम रहने और चीन के प्रति नरम रुख अपनाने का आरोप लगाया था।

डब्ल्यूएचओ ने 9 अप्रैल को जानकारी दी थी
महामारी को लेकर डब्ल्यूएचओ ने शुरुआती टाइमलाइन 9 अप्रैल को जारी की थी।
इसमें उसने सिर्फ इतना कहा था कि हुबेई प्रांत के वुहान शहर के स्वास्थ्य आयोग ने 31 दिसंबर को निमोनिया के मामलों की जानकारी दी थी। हालांकि, इस यह स्पष्ट नहीं किया गया था कि जानकारी किसी चीनी अधिकारी ने दी या कहीं और से पता चली।

<!-- Composite Start --> <div id="M543372ScriptRootC944389"> </div> <script src="https://jsc.mgid.com/p/r/primehindi.com.944389.js" async></script> <!-- Composite End -->

31 दिसंबर को वायरल निमोनिया की जानकारी दी थी
डब्ल्यूएचओ के निदेशक टेड्रॉस ऐडहॉनम गेब्रिएसस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि चीन से पहली रिपोर्ट 20 अप्रैल को आई थी। उन्होंने कहा कि इसमें इस बात का जिक्र भी नहीं था कि यह रिपोर्ट चीन के अधिकारियों ने भेजी है या किसी अन्य स्रोतों की ओर से, लेकिन डब्ल्यूएचओ ने इस हफ्ते एक नई क्रोनोलॉजी जारी की है, जिसमें इन घटनाओं के बारे में विस्तार से बताया गया है। इसमें यह संकेत दिया गया है कि चीन में स्थित डब्ल्यूएचओ के कार्यालय ने 31 दिसंबर को ‘वायरल निमोनिया’ के बारे में सूचना दी थी।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


डब्ल्यूएचओ का दावा है कि उसने 31 दिसंबर को चीन के वुहान में फैले वायरल निमोनिया के बारे में सूचना दी थी।



Source link