फ्रंट पर प्रधानमंत्री का पहुंचना हौसले का हाईडोज, इससे उन्हें असल हालात पता चलेंगे, ताकि तुरंत एक्शन ले सकें

11





प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी शुक्रवार को अचानक लेह पहुंचे। उनका लेह जाना फिलहाल वहां मौजूद सेना-आईटीबीपी के जवानों और अफसरों के लिए बेहद खासहै। सेना-वायुसेना के रिटायर्ड सीनियर ऑफिसर्स से समझिए इसके मायने।

ऑन स्पॉट असेसमेंट का अलग असर होता है- रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ

<!-- Composite Start --> <div id="M543372ScriptRootC944389"> </div> <script src="https://jsc.mgid.com/p/r/primehindi.com.944389.js" async></script> <!-- Composite End -->

प्रधानमंत्री मोदी लेह पहुंचे हैं, इसका बहुत अच्छा असर सिर्फ सेना केही नहीं, बल्किपूरे देश के मोटिवेशन पर होगा। इसका सकारात्मक पक्ष ये है कि नेता जब खुद स्पॉट या फ्रंटलाइन पर जाता हैतो वोपर्सनली सिचुएशन को रिव्यू करते हैं।

वरना उन्हें लेयर बाय लेयर से गुजरने के बाद ब्रीफिंग से स्थिति का पता चलता है। जिसमें टाइम गैप बहुत हो जाता है, एनालिसिस करने और वैल्यू एड होने के बाद उन्हें जानकारी मिलती है। ऑन स्पाट असेसमेंट का अलग असर होता है, इसमें वो सीधे उन लोगों से समझते हैं जो उससे जुड़े हैं और स्थिति का सामना कर रहे हैं।

रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ, सेना की कश्मीर स्थित कमांड के प्रमुख रह चुके हैं। उनके रहते ही सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था।

सोल्जर्स से खुद सुनना बेहद खास है। छोटी-छोटी बातें पता चलती हैंऔर कई बार छोटे फैसले तुरंत हो जाते हैं। ऑनग्राउंड उनको बताया जाता है, ये होगा तो अच्छा होगा और वेसीधे ऑर्डर देते हैं किऐसा करो। इससे एक्शन-रिएक्शन जल्दी होता है। बीच में कोई मंत्रालय, कोई फाइल नहीं आती।

जब मैं कश्मीर में कोर कमांडर था। उड़ी में हमला हुआ, उसी दिन तब रक्षा मंत्री रहेमनोहर पार्रिकर कश्मीर आए थे। वेउड़ी जाना चाहते थे, सैनिटाइनजेशन पूरा नहीं हुआ था इसलिए हमने उन्हें जाने से मना किया। उनके आने का फायदा ये हुआ कि हमें इजाजत मिली। हम सर्जिकल स्ट्राइक कर पाए और 10 दिन में एक्शन ले लिया।

मोदी का जाना बताता है कि वेसेना के साथ हैं और कमांडर को हर फैसला लेने की आजादी है: रिटायर्ड एयर मार्शल अनिल चोपड़ा

पीएम का जाना वहां तैनात सैनिकों के हौसले के लिए बहुत बड़ी बात है। ये सिग्नल है कि देश आपके साथ है और सरकार सेना के साथ रहेगी हर चीज में, हर एक्शन के लिए। पीएम का जाना ये भी दर्शाता है कि मोदी ने आर्मी कमांडर को आजादी दे दी है और ऑनग्राउंड कुछ होता है तो भारत सरकार और देश का प्रधानमंत्री उनके साथ हैं।

फिजिकली पीएम का जाना जहां एक्शन हो रहा है, ये इसलिए मायने रखता है कि ऑनग्राउंड ऑपरेशन में क्या होगा कोई नहीं जानता, ऐसे में सोल्जर को नहीं पता होता कि जो हमारा कमांडर बोल रहा है, क्या सरकार भी साथ है। मोदी के जाने से उन सोल्जर्स को ये पता चलेगा कि सरकार हमारे साथ है। सोल्जर्स के लिए जान देना एक बात होती है और उनकी शहादत को पहचान देना अलग।

रिटायर्ड एयर मार्शल अनिल चोपड़ाफाइटर पायलट रह चुके हैं,वे बतौर एयर ऑफिसर इंचार्ज पर्सनल 2012 में रिटायर हुए।

उन्हें ये कॉन्फिडेंस होना चाहिए कि जब मेरा कफन आएगा तो उसे इज्जत दी जाएगी। मोदी का जाना इस लिहाज से अहम होगा की ये गलवान में शहीद हुए लोगों को इज्जत देने की बात है। यही वजह है कि हम फोर्सेस में फ्यूनरल को अहमियत देते हैं, जिंदा लोगों को ये बताने के लिए कि आपका होना कितना मायने रखता है।

मोदी का ये फैसला सेंसिबल बात है। जॉर्ज फर्नांडीज सियाचिन ग्लेशियर जाते थे, वेसबसे ज्यादा बार वहां जाने वाले नेता बने। फर्नांडीज हर 2-3 महीने में ग्लेशियर चले जाते थे, सैनिकों के लिए फल ले जाते थे और केक भी।

ब्यूरोक्रेट कभी फ्रंट पर नहीं जाता बस फाइल पर बैठा होता है, पीएम को ब्यूरोक्रेटिक सिस्टम से सीमा की जानकारी पता लगती है तो चीजें डायल्यूट हो जाती हैं। पीएम दो दिवाली पर कश्मीर लद्दाख बॉर्डर पर गए। जो उनका ग्राउंड कनेक्ट बताता है। लीडर जब लोकल कमांडर से मिलेगा तो उसे पल्स पता लगेगी,जिसे वो आगे एक्शन ले सकते हैं।

ये सोल्जर्स के लिए हौसले का हाईडोज है- रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन

मोदी की ये सरप्राइज विजिट जबरदस्त है। जिस तरह से उन्होंने ये फैसला लिया है। ये विजिट सेना और राजनीतिक एंगल दोनों के लिएगेम चेंजर साबित होगी। नीमू लेह का बाहरी इलाका है जहां सेना की एक बड़ी गैरिसन है। कोरोना के बाद दिल्ली से बाहर मोदी की ये दूसरी यात्रा है, इससे पहले वेपश्चिम बंगाल तूफान का जायजा लेने गए थे।

रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन, कश्मीर कोर के कमांडर रहे हैं, उनके रहते सेना नेआवामऔर जवान को जोड़ने की कई अनूठी शुरुआत की।

ये उनकी स्ट्रैटजिक मैसेजिंग का हिस्सा है। सरकार लगातार ऐसे कदम उठा रही है ताकि इसका मजबूत संदेश जाए। जब प्रधानमंत्री खुद फ्रंटलाइन पर जाते हैं तो ये सोल्जर्स के लिए हौसले का हाईडोज होता है।

भारत-चीन सीमा विवाद पर आप ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1.गलवान झड़प के 18 दिन बाद मोदी 11 हजार फीट ऊंची फॉरवर्ड लोकेशन पर पहुंचे, जवानों ने वंदेमातरम के नारे लगाए; राजनाथ बोले- सेना का मनोबल बढ़ा

2.मोदी के 6 साल में 9 चौंकाने वाले दौरे: 2015 में पाकिस्तान चले गए थे, पिछले साल दिवाली पर LoC पहुंच गए; इस बार लद्दाख जाकर चौंकाया

3.मोदी ने फिर चौंकाया, चीन से जारी तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे; मैप के जरिए सीमा की रणनीति भी समझी

4.मोदी ने चीन और दुनिया को बताया- लद्दाख का ये पूरा इलाका भारत का है, जहां न सिर्फ सेना खड़ी है, बल्कि देश के प्रधानमंत्री भी मौजूद हैं

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Narendra Modi Ladakh Visit Latest News Updates; PM Modi, Indian Army Soldiers Meeting Amid India China Tension



Source link