जीवीके ग्रुप के चेयरमैन और उनके बेटे के खिलाफ केस दर्ज, मुंबई एयरपोर्ट डेवलपमेंट में 705 करोड़ रुपए के घोटाले के आरोप

37





जीवीके ग्रुप ऑफ कंपनीज के चेयरमैन जी वेंकट कृष्णा (जीवीके) रेड्डी और उनके बेटे जीवी संजय रेड्डी के खिलाफ सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की है। मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के डेवलपमेंट में 705 करोड़ रुपए के हेर-फेर के आरोप में यह कार्रवाई की गई। एफआईआर में एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अफसरों और कुछ दूसरे लोगों के नाम भी बताए जा रहे हैं।

जीवीके एयरपोर्ट होल्डिंग्स लिमिटेड, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) और कुछ विदेशी कंपनियों ने जॉइंट वेंचर में मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल) नाम से कंपनी बनाई थी। इसके 50.5% शेयर जीवीके के पास और 26% एएआई के पास हैं। जीवीके रेड्डी जॉइंट वेंचर के चेयरमैन और जीवी संजय रेड्डी एमडी हैं।

<!-- Composite Start --> <div id="M543372ScriptRootC944389"> </div> <script src="https://jsc.mgid.com/p/r/primehindi.com.944389.js" async></script> <!-- Composite End -->

एमआईएएल सालाना रेवेन्यू का 38.7% एएआई को देती है
एएआई और एमआईएएल के बीच 2006 में एग्रीमेंट हुआ था कि मुंबई एयरपोर्ट को एमआईएएल चलाएगी और सालाना रेवेन्यू का 38.7% एएआई को फीस के तौर पर देगी। बाकी रकम एयरपोर्ट के मॉडर्नाइजेशन, ऑपरेशन और मेंटेनेंस में खर्च की जाएगी।

जीवीके ग्रुप पर आरोप- एमआईएएल का पैसा दूसरी कंपनियों लगाया
एफआईआर के मुताबिक आरोपियों ने 2012 से 2018 के बीच मुंबई एयरपोर्ट के डेवलपमेंट के नाम पर घोटाला किया। जीवीके ग्रुप ने एमआईएएल के सरप्लस फंड में से 395 करोड़ रुपए अपनी दूसरी कंपनियों में लगाए। एमआईएएल के मुंबई बेस्ड होने के बावजूद सरप्लस फंड को हैदराबाद के बैंकों में रखा गया। इस हेरा-फेरी के लिए बोर्ड मीटिंग का फर्जी प्रस्ताव तैयार किया गया। दूसरी ओर फर्जी कॉन्ट्रैक्ट दिखाकर 310 करोड़ की हेरा-फेरी की गई।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


जीवीके ग्रुप के चेयरमैन जीवीके रेड्डी (बाएं) मुंबई एयरपोर्ट को ऑपरेट करने वाली कंपनी एमआईएएल के भी चेयरमैन हैं। उनके बेटे जीवी संजय रेड्डी (दाएं) एमडी हैं।



Source link